रक्त दान महा दान

यदि आप को किसी भी समय किसी रक्तदान करने के इच्छुक लोगो की आवश्यकता है तो निम्न मो नम्बरों से संपर्क करे आपकी हर संभव मदद की जायेगी /यदि आप रक्त दान के इच्छुक है तब भी इस ब्लॉग के टिप्पणी में जा कर आपना मो न व् नाम छोड़े तांकि आवश्यक पड़ने पर आपसे संपर्क किया जा सके व् आपका नाम रक्त दान को तत्पर लोगों में लिखा जा सके
रक्त दान को तत्पर :-
हरप्रीत सिंह ...........09793869893शाहजहांपुर( उ प्र ) रमेश चन्द्र ...........09450421396शाहजहांपुर( उ प्र )


मलकीत सिंह ..........09918826316शाहजहांपुर( उ प्र ) राजेंद्र मीना(sbi ) ............ 09265031315 पटियाला पंजाब



लिखिए अपनी भाषा में

शुक्रवार, 25 नवंबर 2011

नहीं चाहिए मुझे बेटियां


मुझे नहीं चाहिए बेटियां ?
क्या जरुरत है ,मुझे बेटी की ,
मिल गयी माँ यही काफी है
मिल गयी   पत्नी यही काफी है ,
इसी तरह मिल जाएँगीं,
मेरे बेटों को भी बहुए ,तभी तो
नहीं चाहिए मुझे बेटियां
हे  प्रभु  सभी को देना एक एक बेटी
पर मुझे नहीं  ,"तांकि"
तांकि  कह सकूँ लोगों से
बेटी बचाओ -बेटी बचाओ
लगा सकू यही रट हर जगह
भाषण में, टीवी पर, अख़बार में पर
नहीं चाहिए मुझे बेटियां
नहीं बन सकता मै
देखा दुनी का अमिताभ
(क्या आप मेरी इस सोच को बदल सकते हैं  उपाय जरुर बताये )
*मित्रो क्षमा करे मन की बात रखने को रचना को शीर्षक नकारात्मक देना पड़ा =क्योंक़ि कुछ  दहेज़  से  डरे लोग यही सोचते भी है तो कुछ बेटियों को बोझ समझ पैदा करने वाले भी सोचते है यह बोझ जितनी जल्दी उतारे अच्छा ,"वसे मेरी एक राय है क़ि बेटी का रिश्ता करना है है तो लड़का क्या करता है ,उसका   ख़ानदान कैसा है  क्या आदते है उसकी ये तो देखें ही पर इन सबसे जरुरी एक बात और देखें क़ि ससुराल में बेटी क़ि कोई ननद भी है क़ि नहीं कसम खा लीजिए जहाँ ननद  नही है वहां बेटी का रिश्ता नहीं करेगे बस फिर सभी एक सुर में कहेंगे मुझे बेटी चाहिए क्योकि मुझे बहु  भी चाहिए ------मलकीत सिंह" जीत "
बंडा शाहजहाँ पुर
9918826316

24 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही अच्छी और मन को झकझोरने वाली कविता कही आप ने .....

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह ...बहुत ही भावमय करते शब्‍दों का संगम

    उत्तर देंहटाएं
  3. विचारणीय पोस्ट!
    अंग्रेजी का शब्द पुष्टिकरण तो हटाइए। तभी तो कमेंट आयेंगे,
    वरना कोई इतने झमेले में क्यों पड़ेगा?
    लोग आयेंगे और पोस्ट पढ़कर निकल जाएँगे!

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत अच्छी प्रस्तुति । मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. हर एक शब्द दिल को छू गई! बेहद ख़ूबसूरत और भावपूर्ण रचना! बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  6. आदरनीय अवन्ती सिंह जी सदा जी शास्त्री जी प्रेम जी बबली जी आप सभी हौसला बढ़ने इस मंच पर आये, आभार
    आगे भी आपकी प्रतीक्षा रहेगी

    उत्तर देंहटाएं
  7. हमारे समाज की मानसिकता आपने बखूबी पेश की है!...बहुत बहुत बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  8. सकारात्मक सन्देश देती पोस्ट .औरत मर्द का विषमतर होता अनुपात एक दिन समाज को रोक कर पूछेगा -इस दश्त में एक शहर था वो क्या हुआ ..........

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपने लोगों की मानसिकता का सही सही चित्रण किया
    अच्छी रचना बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  10. आदरनीय सकारात्मक प्रतिक्रिया के लिए धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  11. सकारात्मक प्रयास। सराहनीय

    काश हम सब इस गंभीर मसले पर ईमानदारी से सोचें...

    उत्तर देंहटाएं
  12. Malkitsinghji,aapke tippadi form men hindi translitraton kam nahin kar rha hae

    उत्तर देंहटाएं
  13. सकारात्मक प्रयास. एक अच्छी मुहीम. शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  14. बेहद ख़ूबसूरत और भावपूर्ण रचना!

    उत्तर देंहटाएं
  15. सकारात्मक प्रयास। सराहनीय

    उत्तर देंहटाएं
  16. मैं तो कहती हूं जिसे नहीं चाहिए बेटी, उसे न ही दो, न बेटी, न बहू

    उत्तर देंहटाएं
  17. sarahniya aur sarthak prayas ke liye aapko bahut bahut badhai
    bahut bahut bahut umda rachna
    aabhar

    उत्तर देंहटाएं
  18. सकारात्मक और भावपूर्ण रचना.
    बहुत बहुत बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  19. बिटिया रानी

    मत कराइये फिर एहसास
    किस सुख से मन वंचित है
    एक कसक; घनीभूत पीड़ा
    ह्रदय में मेरे संचित है !

    यूँ तो भरा-पूरा है जीवन, संसार मेरा
    सपूतों की जननी, मस्तक गर्वित मेरा
    पायल की रुनझुन,कुमकुम,कज़रे की धा
    हाथों पर मेहंदी, खूब करती उसका श्रृंगार.....


    नैनों में सपन सँजोए
    बाट जोहे प्रसूता
    विधि आँख-मिचौनी खेले
    मन रह जाए बस रीता !

    कहीं गर्भ में दस्तक दे
    जब प्यारी बिटिया रानी
    भ्रूण-हत्या को बेबस, मूक
    जुल्म सहती, अबला नारी ?


    ना ढांपो इस कुरूपता, इस कलुष को
    आवाज़ दो अपने विवेक, संवेदना को
    मत घोटो साँसे, जन्म से पहले बेटी की
    वही बनेगी सुनीता विलियम्स, वही किरण बेदी !
    -सुशीला श्योराण

    उत्तर देंहटाएं
  20. like the title
    मुझे नहीं चाहिए बेटियां ?
    क्या जरुरत है ,मुझे बेटी की

    thoughtful poem

    उत्तर देंहटाएं
  21. nadan hain wo log jo beti nahi chahte beti ke bina to jindgi adhuri hoti hai.

    उत्तर देंहटाएं
  22. I appreciate your thougts.
    betiyon ko kokh me marna bhut aasan hai par logo use paalna bhut mushkil lagta hai.. shayad ye hamari sadiyo se chali aa rhi paramparao ka natija hai...

    pls keep writing... Thanks

    http://anuragisuman.blogspot.com/2011/11/blog-post.html

    उत्तर देंहटाएं