रक्त दान महा दान

यदि आप को किसी भी समय किसी रक्तदान करने के इच्छुक लोगो की आवश्यकता है तो निम्न मो नम्बरों से संपर्क करे आपकी हर संभव मदद की जायेगी /यदि आप रक्त दान के इच्छुक है तब भी इस ब्लॉग के टिप्पणी में जा कर आपना मो न व् नाम छोड़े तांकि आवश्यक पड़ने पर आपसे संपर्क किया जा सके व् आपका नाम रक्त दान को तत्पर लोगों में लिखा जा सके
रक्त दान को तत्पर :-
हरप्रीत सिंह ...........09793869893शाहजहांपुर( उ प्र ) रमेश चन्द्र ...........09450421396शाहजहांपुर( उ प्र )


मलकीत सिंह ..........09918826316शाहजहांपुर( उ प्र ) राजेंद्र मीना(sbi ) ............ 09265031315 पटियाला पंजाब



लिखिए अपनी भाषा में

बुधवार, 28 दिसंबर 2011

बेटी और पेड़....

बेटी और पेड़....


बेटी और पेड़


बेटी बोली पेड़ से, कैसे हो तुम भाई,
हम दोनों ने एक सी किस्मत है पाई,

किस्मत है पाई, दोनों को मारा जाता,
मुझे गर्भ में,तुमको बाहर काटा जाता,

बेटीकी बात सुन, पेड़ ने किया आत्मसात,
दोनों ने किया फैसला,समझाई जाऐ बात,

समझाई जाऐ बात,दिया इंसानों को मश्वरा,
हम दोनों है पृथ्वी की,"नूतनता"और"उर्वरा"

*************************
dheerendra...

10 टिप्‍पणियां:

  1. अच्छी प्रस्तुति .तरु और तनुजा नित नूतन नित नवीन ,जीवन को करते रंगीन .सुख छाया से भरपूर .

    उत्तर देंहटाएं
  2. सही कहा, इनकी( पेड़ और माँ ) घनेरी छाव तो सभी चाहते हैं ,पर इनको (न पेड़ न बेटी "भविष्य की माँ") उगाना कोई नहीं चाहता .....यही तो है कलियुग

    उत्तर देंहटाएं
  3. मेरे अन्य रचनाओं के लिए --"काव्यान्जलि"--में click करे

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर प्रस्तुति.....
    आज भारत देश को ऐसी ही सोच रखने वालोँ की आवश्यकता है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. धीरेन्द्र जी नमस्कार, नव वर्ष की हार्दिक बधाई। आपके प्रयास सफल हो शुभ्कामना।

    उत्तर देंहटाएं
  6. हम दोनों है पृथ्वी की,"नूतनता"और"उर्वरा"
    सुन्दर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुंदर प्रस्तुति.....
    आज युवाओँ को ऐसे ही विचारोँ की आवश्यकता है।
    इंडिया दर्पण की ओर से नववर्ष की शुभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. ऐसी रचनाऐ लोगों की सोच जरूर बदलेंगी।
    शुभकामनाओं के साथ बधाई।

    उत्तर देंहटाएं