रक्त दान महा दान

यदि आप को किसी भी समय किसी रक्तदान करने के इच्छुक लोगो की आवश्यकता है तो निम्न मो नम्बरों से संपर्क करे आपकी हर संभव मदद की जायेगी /यदि आप रक्त दान के इच्छुक है तब भी इस ब्लॉग के टिप्पणी में जा कर आपना मो न व् नाम छोड़े तांकि आवश्यक पड़ने पर आपसे संपर्क किया जा सके व् आपका नाम रक्त दान को तत्पर लोगों में लिखा जा सके
रक्त दान को तत्पर :-
हरप्रीत सिंह ...........09793869893शाहजहांपुर( उ प्र ) रमेश चन्द्र ...........09450421396शाहजहांपुर( उ प्र )


मलकीत सिंह ..........09918826316शाहजहांपुर( उ प्र ) राजेंद्र मीना(sbi ) ............ 09265031315 पटियाला पंजाब



लिखिए अपनी भाषा में

सोमवार, 31 अक्तूबर 2011

कुलक्षणी – बछिया और …… बेटियां




राजेश्वरी आज बड़ी प्रसन्न थी उसकी बचपन की सहेली सुषमा  काफी दिनों बाद मिलने आई थी ,फिर बचपन के सखा  प्रौढ़ावस्था में ज्यादा अपना पन देते है
कैसी है राजो .,सुषमा ने बैठते हुए पूछा-ठीक है सब
हाँ ठीक ही समझ ,अपनी सुना बेटे   का क्या हाल है,नौकरी पक्की हुई के अब  भी मास्टरनी बहु की कमाई से कम चलता है
नहीं,अब तो वो भी लगा है काम पर ,उस कलमुही की तनख्वाह में तो उसकी अपनी लिपस्टिक बिंदी ही पूरी नहीं होती
“दादी दादी कलमुही क्या  होता है ”
चुप बैठ चुड़ैल  ‘राजेश्वरी की डांट खाकर 9  साल की दिव्या फिर किताबो में खो गई ‘
क्या करता    है
उसी स्कुल में बाबु है जहाँ जोरू पढ़ाती है
मै अभी आई …………….  ले खीस  खा
‘राजेश्वरी बैठते हुए’गाय ने बछिया दी है
बधाई हो फिर तो राजो
हा ,बधाई तो ठीक है पर अबकी बछिया न देती तो बेंच देती कसाई को   चार बेंत  ब्याई है निखटटे बछड़े
“दादी दादी निखटटे  क्या होते है ”
तूं चुप नहीं रहेगी- ‘राजेश्वरी ने एक बार घुर के देखा तो सहमी  दिव्या फिर किताबें  उलटने पलटने लगी ‘
बहु आ गई अस्पताल से ?सुना है फिर लड़की जनी है ,और वो भी बड़े आपरेशन से ?
हाँ सुशीला यही तो रोना है |इस गाय से बछिया मांगो तो बछड़े  देती है उस कुलक्षणी से नर मांगो तो मादा जनती है
दिव्या फिर बोल बड़ी ‘दादी दादी  कुलक्षणी क्या होती है
राजेश्वरी इस बार अपना गुस्सा रोक न सकी  ‘कुलक्षणी है तेरी माँ जिसने तुझे जना “एक छोरा न जन सकी
राजेश्वरी कुछ और कहती उससे पहले दिव्या फिर बोल पड़ी
फिर तो दादी  बड़ी नानी और आप भी तो कुलक्षणी है जिन्हों ने आप को और आप ने गीता बुआ को जन्म दिया ?”और दिव्या किताबे फर्श पर फेंक अपनी माँ के कमरे में दौड़ गई
राजेश्वरी कभी फर्श पे पड़ी किताबो को देखती तो कभी शुशीला को ,जो खुद एक बुत बनी खड़ी थी
मलकीत सिंह “जीत”
9935423754

4 टिप्‍पणियां:

  1. फिर तो दादी बड़ी नानी और आप भी तो कुलक्षणी है जिन्हों ने आप को और आप ने गीता बुआ को जन्म दिया ?”और दिव्या किताबे फर्श पर फेंक अपनी माँ के कमरे में दौड़ गई.bhut khub.

    उत्तर देंहटाएं
  2. NISHA MAHARANA जी ब्लॉग पर आकर हौसला बढ़ाने का बहुत बहुत धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  3. मन को झकझोरती...नारी को जहाँ शक्ति रूप में पूजा जाता है ..उस देश समाज में ऐसी सोच...!! मन भर आता है...उद्वेल्लित करने वाली प्रसूति...आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  4. ‘कुलक्षणी है तेरी माँ जिसने तुझे जना “एक छोरा न जन सकी....

    उफ्फ .....
    ये औरत ही औरत की दुश्मन क्यों हो जाती है .....

    उत्तर देंहटाएं